Internet अविष्कार क्यों हुआ ?Why Was Internet Invented?

दोस्तों आज हम आपको एक रोचक जानकारी से अवगत कराने जा रहे है, जिसका नाम है इन्टरनेट |इन्टरनेट का अविष्कार क्यों हुआ ? यह एक रोचक जानकरी है कृपया इस ब्लॉग को पूरा पढ़े और सपोर्ट करे |

Why was internet invented?इंटरनेट का अविष्कार क्यों हुआ ?

कंप्यूटर की सुरुआत तो लगभग 1946 में हुई, परन्तु 1960  के आसपास वैज्ञानिको, शिक्षण संस्थानों, और गवर्नमेंट एजेंसी ने सोचा की क्यों न Worldwar के दौरान मारे गए सैनिको, बचे हुए सैनिको के पास भोजन और हथियार पहुचाने, और उनके वर्तमान स्थिति की जानकारी के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाये क्युकी “सेकंड वर्ल्डवार”( १९३९ से १९४५) काफी ज्यादा सैनिक मारे गए थे और जो कुछ बचे थे वो भूख से मर रहे थे, इस बात की जानकारी रखने के लिए कंप्यूटर आपस में जोड़ा गया ताकि सभी प्रकार की जानकारी युद्ध के दौरान भेजी जा सके, और युद्ध के दौरान कोई नेटवर्क ध्वस्त होने के बावजूद जानकारी को सुरक्षित रखा जा सके और सूचना भेजी जा सके |

इसी कारण को ध्यान में रख कर US डिफेन्स डिपार्टमेंट ने एक एजेंसी अरपानेट(ARPANet ) की सहायता से इस प्रोजेक्ट पर कार्य आरम्भ किया| इस कार्य को प्रारम्भ करने में 4 कंप्यूटर को एक साथ जोड़ा गया और वेब page की कोडिंग की गयी, और इन वेब पेजों को एक दुसरे से लिंक किया गया और इस बात का भी ध्यान रखा कि इस नेटवर्क को समय समय पर अपग्रेड भी किया जा सकता है तो नेटवर्क सरल तथा लचीला हो |

Who Own The Internet ? इन्टरनेट कौन चलाता है ?

इस बात के जवाब में जानकारी यह है की इन्टरनेट को कोई नहीं चलाता है यानि यू कहे की इन्टरनेट का मालिक कोई नहीं है न कोई कंपनी न कोई गवर्नमेंट | इन्टरनेट पूरे विश्वभर में फैले हुए कंप्यूटर और सर्वर का एक जाल है इन्टरनेट जिस तरह भी चल रहा है उसकी एक नॉन प्रॉफिट सोसाइटी है जो प्रोटोकॉल की सहायता से जुड़ा हुआ है ( प्रोटोकॉल कंप्यूटर को आपस में जोड़ने का एक नियम है )|

क्या वाकई “WWW” World Wide उपलब्ध है ?

तकनीकी रूप से कहा जाये तो यह बात सच है की इन्टरनेट पूरी दुनिया में फैला है |लेकिन कुछ country है जो इन्टरनेट पर ब्लाक अथवा फ़िल्टर लगा रखा है| और उन citizen के ऊपर कार्यवाही होती है जो गवर्नमेंट की खिलाफत में पोस्ट डालते है | जैसे चीन, सीरिया, और नार्थ कोरिया |

इन्टरनेट सदेव HTTP://WWW से ही क्यों स्टार्ट होता है ?

http जिसका तात्पर्य है “Hyper Text Transfer Protocol”.यह  भाषा को कंट्रोल करने का एक नियम है | जो ब्राउज़र की मदद से नेटवर्क पर लिंक पेजों को कंट्रोल करने का कार्य करता है जो आपके द्वारा दिए गए निर्देशों को “ऑडियो, विडियो, टेक्स्ट,मल्टीमीडिया, इमेज” की कोडिंग की सहायता से ट्रान्सफर करता है और “www” किसी ब्राउज़र की मदद से विश्व भर में कही भी search की गयी इनफार्मेशन किसी भी सर्वर में उपलब्ध है तो वह उस सर्वर पर प्रोटोकॉल की मदद से होस्ट सर्वर पर Fetch  करती है, और requested वेब पेज के आधार पर वह हमें सूचना प्रदान करता है|

इसी वजह से आज इस दुनिया को आपस में जुड़ने का मौका मिला और दुनियाभर की जानकारी से हम अवगत होते रहते है इस digital क्रांति के युग में अगर कोई भी छात्र digital लिटरेसी से पीछे रह गया वो अपने आपको पीछे पायेगा |

दोस्तों हमारा यह ब्लॉग आप लोगो को कैसा लगा हमें कमेंट करके अवश्य बताये अगर आपकी कोई क्वेरी हो तो हमें मेल करे [email protected] पर अवश्य आपको रिप्लाई करेंगे | ब्लॉग से जुड़े रहने के लिए धन्यवाद् |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *