What is ROM? रोम कितने प्रकार के होते है ?

मित्रो इस  BLOG में हम कंप्यूटर की एक अन्य मेमोरी के बारे में जानेंगे जिसे रोम कहते है.(READ ONLY MEMORY). 
        जैसा की आपने उपर कंप्यूटर मेमोरी और इसके प्रकार के बारे में पढ़ा कंप्यूटर में जितने भी कार्य परफॉर्म होते है. इसके पीछे मेमोरी का ही कार्य सबसे अधिक होता है, जैसे flash memory, virtual memory, cache memory, removable memory, primary memory, secondary memory आदि उसी प्रकार Rom भी कंप्यूटर की सबसे  आवश्यक memory है I इसका तात्पर्य यह है की इस प्रकार की memory में केवल डाटा पढ़ा जा सकता है, इसमें किसी प्रकार का कोई बदलाव नहीं किया जा सकता I यह memory कंप्यूटर के चिपसेट (motherboard) में एक IC (integrated Circuit )के रूप में लगी होती हैI यह memory कंप्यूटर के Manufacturer  के द्वारा लगाया जाता है, ताकि कंप्यूटर के बेसिक उपकरण जैसे कंप्यूटर memory, Micro Processor, Input/ Output उपकरण की इनफार्मेशन
स्टोर हो सके (इस लिए इस memory को BIOS Rom भी कहते है, BASIC input/output system)   और यह कंप्यूटर के routine On/Off में यह सभी उपकरण को जाँच सके यदि इस routine process(Boot Sequence) में किसी भी प्रकार की कोई समस्या आती है तो यह हमें एक एरर बीप कोड के माध्यम से दर्शाता है या हमें स्क्रीन पर सूचना दर्शाता है I

Rom के कार्य 

रोम सामन्यतया कंप्यूटर को on/ off  करने के दौरान परफॉर्म करता है जिसे POST(Power On Self Test) कहा जाता है I यानी जब कंप्यूटर को on किया जाता है तो यह मुख्या मेमोरी के द्वारा सिग्नल को प्राप्त करता है और उसे रूटीन चेक करने के बाद यह कंप्यूटर के Operating System को load करता है I इस रूटीन चेक को post (Power On Self Test )भी कहा जाता है, जिसमे यह कंप्यूटर on होने के बाद कंप्यूटर के समस्त उपकरण को चेक करता है I

ROM कितने प्रकार की होती है? HOW MANY TYPES OF ROM?

रोम मुख्यता 3 प्रकार की होते है  I

  1. Prom(Programmable Read Only Memory)
  2. EPROM(Erasable Programmable Read Only Memory)
  3. EEPROM(Electrical Erasable Programmable Read Only Memory)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *